Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

शनिवार, 23 अप्रैल 2011

एमएस वर्ड की फाइल को पासवर्ड से सुरक्षित करें (Protect Ms-Office file with password)



  आप अपनी माइक्रोसाफ्ट वर्ड की फाइल को अब अपने तक ही सीमित रख सकते है ताकि आपकी इस फाइल के माध्यम से कोई आपका प्राइवेट डाटा न चुरा सके या उसे न जान सके।
सबसे पहले अब जिस फाइल को पासवर्ड से सुरक्षित करना चाहते हैं उसे वर्ड में सेव एस करें या अगर फाइल नई है तो सेव करें अब चित्र 1 के अनुसार जनरल आॅप्शन्स पर क्लिक करें।
अब चित्र 2 के अनुसार अपना पासवर्ड तय करें ध्यान रहें जो 2 आप्शन आपके सामने है वह है पासवर्ड टू ओपन जिसका मतलब है आप यहाँ वह पासवर्ड डालें जिससे कि आप केवल फाइल खोल सकें। और जो दूसरा आप्शन है वह है पासवर्ड टू मोडिफाई जिसका मतलब है यहाँ वह पास पासवर्ड डालना है जिसके कि आप उस फाइल को एडिट कर सकें। आप चाहे तो दोनों में एक ही पासवर्ड डाल सकते हैं अन्यथा यदि आप चाहते हैं कि फाइल खोलने वाला उस में एडिट न कर सकें तो आप दोनों आप्शन्स में अलग अलग पासवर्ड डाल सकते हैं।
अब फाइल को सेव करें। और इस फाइल को बंद करें।
इस तरह यह फाइल अब बिना पासवर्ड के नही खुलेगी।
pic 2 click on zoom

फेसबुक में फ्रेंड्स पोस्ट को हाइड और अनहाइड करना (How to unhide a friends wall(home page) post?)

कभी-कभी हमारा कोई फेसबुक मित्र जरूरत से ज्यादा बेकार के अपडेट देता रहता है या कभी-कभी गलती से वह कोई एप्लीकेशन या एपस् को ज्वाइन कर लेता है जिससे उसके जितने भी फ्रेंड्स होते हैं उन सभी को यह एप्स हर घड़ी किसी न किसी तरह के अपडेट उसकी वॉल पर भेजते रहते हैं जिसमे हम भी शामिल होते हैं। आइये इस समस्या का सोल्यूशन निकालते हैं:
Pic 1 click on for zoom
अब जिस भी फे्रंड्स की पोस्ट को हाइड करना चाहते हैं चित्र 1 के अनुसार पर क्लिक करें अब जो आप्शन आ रहें हैं उन पर अपने अनुसार क्लिक करें।

यदि आपने किसी फे्रंड्स के लिये हाइड आॅल पोस्ट.. वाला आप्शन चुन लिया है तो आपको इस फें्र ड्स के अपडेट मिलना बंद हो जायेंगे।
pic 2 click on for zoom
अब यदि आप कुछ समय बाद चाहते हैं कि उस फ्रेंड्स के अपडेट आपके वॉल पर भी आयें तो आपकी वॉल में चित्र 2 के अनुसार जो वॉल पर सबसे नीचे राईट साइड में एडिट आप्शन आ रहा है पर क्लिक करें

अब आपके सामने जो विंडो खुलेगी  (चित्र 2) उसमें जिस फें्रड को आप अनहाइड करना चाहते हैं उसके सामने जो क्रास का साइन आ रहा है पर क्लिक करें
अब उस फें्रड्स की अपडेट आपकी वॉल पर आना शुरू हो जायेगी

Q. ; How to unhide a friends wall(home page) post?)
Ans.; Go down to the bottom of wall, on the right side it says "edit options" there is a list of people you have blocked, uncheck them

शुक्रवार, 8 अप्रैल 2011

भोपाल शहर में होशंगाबाद रोड हाइवे का हाल

Bhopal Roads
हाइवे पे कलारियाँ, डाबों पर रात की मदमस्त पार्टियाँ,
और शहरवासियों की आँखों में आँसू क्यो हैं, इस शहर में हर प्रशासनिक वेसुध क्यो हैं,
मर रहें हैं रोज-रोज घर के चिराग, और भविष्य देश के,
फिर भी ये प्रशासनिक एक-दूसरे का मँुह देखते क्यो हैं।
गड्डे भरने के निकलते हैं टेंडर्स, पर न जाने ये गड्डे खाली क्यों हैं।
स्कूल से निकलते हैं मासूम, पर घर से पहले श्मशान पहँुचते क्यों हैं।
-भगत सिंह पंथी
*कलारियाँ : वाइन शॉपस्

  भोपाल की सड़के वर्ल्ड रिकार्ड बनाने में हमारी सहायता कर सकती हैं, क्यों न हर वो प्राणी वर्ल्ड रिकार्ड के लिये एप्लाई करे जो इन जानलेवा गड्डों में सफलता पूर्वक गाड़ी चलाता है और किस्मत से रोज घर, आॅफिस आदि जगह पहँुच पाता है।
मध्यप्रदेश शासन के पास एक सुनहरा अवसर है, वह बड़ी-बड़ी आॅटोमोबाइल कम्पनियों को भी आमंत्रित कर सकती है भोपाल की रोडों पर अपनी कारों, ट्रकों, ट्रेक्टरों, वाइक की गुणवत्ता जाँचने के लिये। ये कंपनियाँ इन गड्डों पर गाड़ी टेस्ट कर ये तय कर सकती हैं कि वे कौन से घटिया टायर ट्यूब, वेयरिंग आदि अपनी गाड़ी में न यूस करें। और जब ये कंपनियाँ अपनी गाड़ी इन रोडों पर टेस्ट कर लें तो शासन को एक सर्टिफिकेट भी देना चाहिए जिस पर लिखा हो.
मध्यप्रदेश शासन (हमारे गड्डे हमारी पहचान)
8 april 2015

पिछले २ दिन से पेपर में पढ़ रहा हूँ भोपाल में डम्फर की चपेट और स्कूल बस के नीचे आने से  एक्सिडेंट से एक कॉलेज स्टुडेंट और एक बच्चे की दर्दनाक मौत हो गई इससे पहले पिछले हफ्ते एक प्रोफ्फेसर भी इसी तरह की दुर्घटना में मारे गए. और हमारे प्रसासनिक अधिकारी हेलमेट को न पहना इसका कारन मन रहे है. (कल जो बच्चा डम्फर की चपेट में आया वह तो न गाड़ी पर था और न बीच रोड पर वह तो आपनी माँ से साथ बस के इन्तेजार में सड़क किनारे खड़ा था ) और १० मई से हेलमेट लागू कर रहें है. और अपना पल्ला झाड रहे हैं. क्या हेलमेट पहना आदमी डम्फर के नीचे आने पर मरेगा नहीं? नगर निगम को सड़कों पर गड्डे खोदने का टेंडर जारी करने से कौन रोकेगा? जो ११मिल बायपास की जो हालत है उसके जिमेदारों को न जाने कैसे सजा मिलेगी? आप सभी का एक्सपेरिएंस होगा की जब हम हेलमेट पहनते है तो हमें साईट से आने वाले वाहन का आभास कुछ देर से होता है
click for zoom
click for zoom
for zoon click on image
for zoom click on image
नगर निगम न जाने क्यों भोपाल को लेकसिटी से गड्डासिटी बनाने पर तुली हुई है, अभी तक तो हमारे घरों के सामने ही गड्डे खोद कर खुला छोड़ रही थी अब ये भा जा पा कार्यालय के सामने भी चालू हो गई
26 sept11 bhaskar bhopal
click on image for zoom
25 sept11 bhaskar bhopal

25 sept11 db star bhopal

29 nov11 bhaskar bhopal

15 dec11 bhaskar bhopal

3 feb12 db star bhopal

4feb12 dbstar bhopal


4feb12 db star bhopal

right click and open in new window for ZOOM 1st may12

right click and open in new window for ZOOM 2nd may12

right click and open in new window for ZOOM 3rd may12
6 july12

27 june12 bhaskar bhopal




right click and open in new window  17 july12 bhaskar bhopal



right click and open in new window  18 july12 bhaskar bhopal 

05 march 2015
24 nov 2012 bhaskar bhopal



सोमवार, 4 अप्रैल 2011

शट-डाउन (Shut Down) और री-स्टार्ट (Re-Start) का Shortcut बनायें ।


pic 1 click for zoom
 यदि आप अपनी विंडों को 1 सेकंड में शीघ्र ही शट-डाउन या री-स्टार्ट करना चाहते हैं और इसके लिये एक शॉर्टकट बनाना चाहते हैं तो सबसे पहले
अपने डेस्कटॉप के खाली स्क्रीन पर राइट क्लिक करें अब चित्र 1 के अनुसार आपके सामने जो विंडो खुलेगी उसमें न्यू पर माउस ले जाईये और शॉर्टकट पर क्लिक किजिये ।





अब आपके सामने जो विंडों खुले चित्र 2 के अनुसार उसमें ये shutdown -s -t 01 लिखिये ओर नेक्स्ट पर क्लिक किजिये


 अब चित्र 3 के अनुसार उस शॉर्टकट का नाम लिखा हुआ आयेगा शट-डाउन ।

अब फिनिश पर क्लिक करें



pic 3 click for zoom

ये होगया आपका शट-डाउन का शॉर्टकट अब जब भी आपको विंडो को शट-डाउन करना हो इस पर डबल क्लिक करें।


अब इसी तरह आप री-स्टार्ट का भी शॉर्टकप बना सकते हैं हैं बस shutdown -s -t 01 की जगह ये shutdown -r -t 01 लिखें ।




शुक्रवार, 1 अप्रैल 2011

अपने कम्प्यूटर की स्क्रीन सेवर में अपने फोटो कलेक्शन को स्लाइड शो की तरह दिखाईये

यदि आप अपने फैमली फोटोस् या अपने सुंदर फोटोस् को स्क्रीम सेवर में दिखाना चाहते हैं तो सबसे पहले जिन फोटोस् को आप दिखाना चाहते हैं उन्हें किसी एक फोल्डर में कॉपी कर पेस्ट कर दें।
pic1 click for zoom
अब अपने डेस्कटॉप की खाली स्क्रीन पर राइट क्लिक कर प्रोपट्री पर क्लिक करें अब आपके सामने जो विंडो खुलेगी उसमें चित्र 1 के अनुसार सेटिंग करें
pic 2 click for zoom
अब चित्र 2 के अनुसार उस फोल्डर को ब्राउस या सलेक्ट करें जिसमें आपने फोटो पेस्ट किये थे अब ओके कर स्क्रीन सेवर का प्रीव्यू देखें। ये होगया आपके फोटोस् का स्क्रीन सेवर।

सर से गुजरती शिक्षा मंहगाई

आज से स्कूलों का बिजनेस चालू हो गया है। वे स्कूल जो बड़े-बड़े ट्रस्टों द्वारा संचालित किये जाते हैं जो कम दाम में अच्छी शिक्षा का दावा करते हैं जिन्हें हमारे देश के कोने कोने से और विदेशों से भरपूर वित्तीय सहायता मिलती है। जिनमें बच्चों को पढ़ाना ऐसा लगता है जैसे कि किसी हाउसिंग लोन की ईएमआई भर रहे हों। ये स्कूल इस शिक्षा सत्र में कमाने का नये नये बहाने ढँूढ़ रहें हैं जैसे बहुत से स्कूल कमाने के लिये किसी न किसी तरह बच्चों की यूनिफार्म चेंज कर या किताबों का पब्लिकेशन चेंज कर अभिभाववकों को उसे खरीदने को कह रहें हैं । और हद तो तब हो जाती है जब आपका बच्चा केजी 2 से पहली क्लास में जाता है तो ये स्कूल संचालक रिएडमिशन चार्ज वसूल रहे हैं। आप अपने आस पास की यूनिफार्म और स्कूल की किताबों की दुकानों पर भीड़ देख इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं।
कुछ दिन पहले न्यूज पेपर्स में ये समाचार छपा था कि कलेक्टर के आदेश हैं कि स्कूल अभिभावकों को इन यूनिफार्म और किताबों को किसी पर्टिकुलर जगह से खरीदने के लिये मजबूर नही कर सकते किंतु इस आदेश का असर कहीं भी देखने को नही मिल रहा हैं। कृपया प्रशासन से निवेदन हैं कि इन स्कूलों को मनमर्जी से हर वर्ष यूनिफार्म और किताबों का पब्लिकेशन चेंज करने का विस्तृत कारण बताने का आदेश जारी करना चाहिये और इनसे ये भी पूछना चाहियें कि ये उन किताबों को बच्चों को कैसे रिकमंड कर रहें हैं जिन पर प्राइस के दो-दो स्टीकर्स एक के ऊपर एक लगे होते हैं और दोनों में कम से कम 75प्रतिशत का फर्क होता हैं। और वे स्कूल जो अनुदान पाकर गरीब बच्चो को शिक्षा देने का वादा करते हैं वे केवल झुग्गी झोपड़ी ऐरियों में ही सीमित हैं उन्हें कौन बतायें कि गरीब केडेगरी के कुछ बच्चें शहर की पाश कॉलोनियों में भी निवास करते हैं। और इन्हें ये भी सोचना चाहिये कि मिडिल क्लास के बच्चे भी तो गरीब की ही केडेगरी में आते हैं भले ही शासन उन्हें अमीर समझ रहा हो। हमारे शहर में जिस अनुपात में नई नई कॉलोनियां बन रही हैं उस अनुपात में स्कूलों का प्रतिशत 5प्रतिशत भी नही दिखाई देता। गांवों में तो आपको स्कूल मिल जाते हैं पर शहर में यदि आप किसी नई कालोनी में रहते हैं तो आपको अपने बच्चें के लिये स्कूल ढंूढने में निराशा ही हाथ लगेगी।
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...