सोमवार, 12 सितंबर 2011

एक प्रश्न जो हर उस बच्चे के दिमाग में जवानी तक रहता है जो आज तम्बाकू से परिचित है

  बहुत सी दवा कम्पनियाँ बीमारियों को दबाने वाली दवाएँ के लिये ही रिसर्च कर रही हैं और नई नई दवाएँ मार्केट में उतार रही हैं और खूब मुनाफा पीट रहीं हैं। ये कम्पनियाँ बीमारियों को जड़ से खत्म करने के लिये रिसर्च क्यों नही करतीं। अगर कर भी रहीं है तो इनका रिजल्ट क्यो नहीं आता क्यो सरकार अपने राजस्व के चक्कर में इनको इसके के लिये उत्साहित करने से हिचकती है। मुझे लगता है कि इससे इनकी दुकानदारी बंद हो जायेगी। एक बात ओर कि सरकार तम्बाकू विक्रेताओं से कहती है कि पैकेट पर लिखें और ये बीमारी के फोटो भी दर्शाये जिससे लोगों ये पता पडेÞ कि तम्बाकू का सेवन स्वास्थ्य के लिये हानिकारक है। क्या ये बात हमारे सरकार के समझ नही आती। माना कि सरकार इनकी बिक्री पर रोक नही लगा सकती तो कम से कम से तो कानून बना सकती है कि हर वो व्यक्ति जो तम्बाकू का सेवन करता है के लिये स्वास्थ्य बीमा अनिवार्य हो। और जो तम्बाकू उत्पाद मार्केट में बिक रहे हैं उनकी क्वालिटी के लिये एक ग्रेड तय हो जिससे इसका सेवन करने वाले को ये पता हो कि वो किस स्तर का तम्बाकू उत्पाद ले रहा है। भगत सिंह पंथी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...