Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

बुधवार, 21 सितंबर 2011

4c Gandhi to unicode font converter

कृपया यहां​ क्लिक कर फोन्ट कन्वर्ट करें

19 टिप्‍पणियां:

  1. Hello Bhagat Bhai,
    Pranam.
    Aap ke is prayas se main kafi khus hua agar mere layak koi bhi sewa ho to mujhe aap is Email ID per sampark kar sakte hain. sunilvarunpandey@gmail.com
    Sunil Pandey

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या आप 4सी का किबोर्ड बना सकते हो?

    उदा. गोदरेज, रेमिंगटन, ऐसाही एक कि बोर्ड मुझे बनाना है. क्या आप बना सकते हो. तो मुझे बताओ.
    मेरा ईमेल आयडी
    gurumane@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ha m bena sakta .... m to typing hi 4c mai hi karta hu mere pas 4c k key board ki pdf file h..

      हटाएं
  4. सच के रखवाले दैनिक सवेरा ने आप लोगो तक हमेशा सच्चाई पुहचाने की कोशीश की है जिस के चलते दैनिक सवेरा लोगो की धडकन बनता चला गया इसी लिए तो कहा जाता है अंधेरे से उजाले की ओर चलना है तो दैनिक सवेरा पढो सच आप के सामने होगा

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच के रखवाले दैनिक सवेरा ने आप लोगो तक हमेशा सच्चाई पुहचाने की कोशीश की है जिस के चलते दैनिक सवेरा लोगो की धडकन बनता चला गया इसी लिए तो कहा जाता है अंधेरे से उजाले की ओर चलना है तो दैनिक सवेरा पढो सच आप के सामने होगा

    from, atul malhotra mobile no. 9855300819

    उत्तर देंहटाएं
  6. गैस एजैसी का नया फरमान
    बैक खाते के साथ खुलेगा गैस कनैक्शन
    जगराओं अतुल गैस की काला बजारी को रोकने के सरकार ने गैस एजैसियो को निदेश जारी किये थे कि आई डी प्नुफके बिना किसी •ाी उप•ोक्ता को गैस नही दे जाएगी इस के लिए गैस एजैसियो को एक फार्म के वाई सी •ार कर देना होगा जिस के पिछे 7 आई डी प्नुफ में एक या दो आई डी प्नुफ देने को कहा है लेकिन एक गैस एजैसी के मालिक ने अप•ोक्तायो को नया फरमान सुना दिया कि बिना बैक खाते के वह गैस क नैक्शन नही खोलेगे यदि बैक में खाता नही तो उस उप•ोक्ता का क नैक्शन चालू नही होगा इस सबधी जानकारी देते गाव किडी के रहने गुरदेव सिह ने बताया वह गैस एजैसी में बद पडे गैस कनैक्शन को चालू करवाने गया था जिस के पिछले लिए आई डी प्नुफ में से राशन कार्ड वोटर कार्ड और डाईविग लाईसैस तीन आई डी लगाने के वाजूद •ाी उस को यह कह वापिस लोटा दिया कि पहले बैक में खाता खोलो फिर गैस कनैक्शन खुलेगा उस ने बताया गैस एजैसियो में बैठे कर्मचारी उन को खराब कर रहे है उन्होने जिस का बैक में खाता नही उस को गैस नही दे रहे उन्होने कहा वह इस सबधी फूड सप्लाई वि•ााग को इस की शिकायत दे दी है दूसरे ममले में मनोहर लाल ने बताया कि वह पिछले एक महीने से गैस लेने के धक्के खा रहा है उस का गैस क नैक्शन चल रहा लेकिन बुक करवाने के जब वह गैस एजैसी में गया तो उस को यह कह कर वापिस •ोज दिया जाता था कि वह डाईविग लाईसैस को आई डी प्नुफ नही मानते उस ने बतााया पहले उस को बैक में खता खुलवाने के कहा तो उस ने मौके पर बैक में 2 हजार रूपया देकर खाता खोला फिर जाकर गैस बुक हुआ

    उत्तर देंहटाएं
  7. गदगी के बीच मनानी पड सकती है दीवाली
    तीन दिन से ए 2 जैड कपनी के कर्मचारियो ने काम छौडा
    जगराओं अतुल यदि आप अपने दीवाली के चलते अपने घर की सपाई करना चाहते है तो सोच सम­ा कर ही सफाई करना शाहद आप लोगो को इस वार दीवाली गदगी के बीच ही मनानी पड सकती है क्यो कि ए टू जैड के कर्मचारियो ने पिछले तीन दिनो से काम छोडा हुआ है जिस कारण शहर में गदगी ही गदगी फैली पडी है कपनी के कर्मचारियो के काम छोड देने से शहर की सफाई व्वस्था फूरी तरह चरमरा गई है गदगी के बडे बडे ढेर गली चौराहो शिक्षा सस्थानो मदिर सार्वजिनक स्थानो धामिक स्थानो शहीदो की यादगार के साथ साथ आमजन के घरो तक •ाी गदगी के धेर पुहच गए है त्यौहारो के चलते घर के आगे गदगी के ढेर लगने जहा शहरवाली हताश है वही कूडे पर पैदा होने वाले मच्छर से क•ाी •ाी •ायकर बिमारी फैलने का खतरा पैदा हो गया है लोगो की सुविधा की जिम्मेदारी लेने वाली नगर कौसिल और सेहत वि•ााग कु•ाकर्णी नीद सौ रहा है ए टू जैड के काम बद करने से शहर के मुख्य बजारो में रायकोट रोड कुकड चौक अनार कली बजार डिस्पोजल रोड माता रानी मंदिर पुरानी सब्जी मडी रोड हर तरफ गदगी के बडे बडे ढेर लगे हुए है यदि दीवाली से पहले इन की हडताल ना टूटी तो शहर गदगी के ढेर पर होगा और लोगो को गदगी के ढेर पर दीवाली मनानी पड सकती है इस सबधी नगर कौसिल के कार्य साधक अफसर दविदर तूर का कहना है कि पिछले तीन दिनो कपनी के कर्मचारी गदगी उठाने नही आये जिस कारण उन्होने कोसिल के कर्मचारीयो से सफाई करवा रहे है और कपनी को इस सबधी नोटिस निकाला जा रहा है

    क्या कहना है कपनी कर्मचारियो का,
    शहर में लगे गदगी के बडे बडे ढेरो पर ए टू जैड के कर्मचारी दविदर सिह का कहना कि कपनी ने •ार्ती के समय जो बाते कही थी अब कपनी उन से मुकर रही है औ्र ठेकेदारी सिस्टम लागू करना चाहती जो उन को मनजूर नही जिस कारण उन्होने काम बद कर दिया उन्होने कहा जब तक उन का फैसला नही होता वह काम नही करेगे

    बिमारी फैली तो कौसिल जिम्मेदार,
    शहर में गदगी के लगे बडे बडे ढेरो पर सेहत वि•ााग ने तो पल्ला ­ााडते हुए साफ शब्दो में कह दिया कि यदि शहर में कोई बिमारी फैलती है तो इस की जिम्मेदारी नगर कोलिस की होगी इस वारे एस एम ओ डा आर के ककरा ने कहा शहर की सपाई करवाने और उस पर डी टी छिडकाने का काम कोसिल का होता है इस ममें सेहत विबाग कुछ नही करता सकता

    from, atul mobile 09855300819

    उत्तर देंहटाएं
  8. मौत के साय में पढते है 136 बच्चे
    क•ाी •ाी गिर सकती स्कूल की छत, हर दम मौत का डर
    जगराओं अतुल चाहे राज्य सरकार सरकारी स्कूल को सुधारने के लाख दावे करती हो लेकिन सच्चाई कुछ और ही है सच तो यह ही यहा के एक सरकारी स्कूल के 136 के करीब छोटे छोटे बच्चे मौत के साय मे पढते है जिस की छत गिरने को तैयार है यहा तक कि इस स्कूल की दीवार के साथ हाई टैशन बिजली की तार लगती जिस से क•ाी •ाी स्कूल में करट आ सकता है इस सबधी स्कूल की प्निसीपल दवारा सरकार को कई वार कहा गया लेकिन कोई •ाी अधिकारी या नेता सुनने को तैयार नही है जानकारी के अनुसार जगराओं की पुरानी दाना मडी के गेट पर ही एक सरकारी स्कूल है जिस में लग•ाग 136 के करीब बच्चे पढने आते है जिस की छत क•ाी •ाी गिर सकती है बच्चे हर दम मौत के साय में पढते है इस सबधी जानकारी देते हुए स्कूल की प्निसीपल मैडम ईन्दू ने बताया स्कूल में बच्चे ज्यादा है और जगह कम है जिस कारण उन को एक हीकमरे में दो दो कलासे लगानी पढती जिस कारण बच्चो को पढना बडा मुश्किल हो गया है दूसरी और स्कूल की छत की काफी खस्ता हालत है उपर से बिजली की तारे स्कूल की दीवार के साथ लगती जिस से क•ाी •ाी कोई बडा हदसा हो सकता है इस सबधी विधायक कलेर को इस सबधी कहा गया लेकिन उन की तरफ से •ाी कोई हल नही निकला गया उन्होने कहा यदि कोई बडा हदसा हो गया तो इस जिममेदारी लेने को कोई तैयार नही होगा सब कुछ स्कूल स्टाफ के सिर पर फोडा जाएगा

    136 बच्चो को पढाते 2 टीचर
    पुरानी दाना मडी स्थित पाचवी कक्षा तक स्थित सरकारी स्कूल में लग•ाग 136 बच्चे पढने आते है लेकिन पाच कक्षाओ में सिर्फ दो टीचर ही पढाने आते है जब इस सबदी स्कूल की प्निसीपल से पूछा तो उन्होने कहा वह वी पी ओ को इस सबधी कई वार कह चुकी है लेकिन इस सबधी कोई •ाी हल नही हुआ उन्होने कहा 136 बच्चो को दो टीचर नही स•ाल सकते जिस कारण बच्चो की पढाई पर असर पढ रहा उन्होने कहा पिछले 6 महीनो से बच्चो को नही पढाया गया

    from, atul mobile no. 09855300819

    उत्तर देंहटाएं
  9. उषा गांगुली निर्देशित रंगकर्मी का नया नाटक ‘हम मुख्तारा’

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. Ye bhi try karein

    http://www.jagruktamail.com/4c_gandhi_to_krutidev_unicode_font_converter.html

    उत्तर देंहटाएं
  12. 4C gandi Font hai agr kisi ke pass mujhe mail kar dijiye meri email hai
    rohittyagi007x@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. शेलूबाजार येथे महसुल राज्यमंत्री ना राठोड यांची भेट
    फेब्रुवारी महिन्यात जनता दरबार घेणार असल्याची दिली माहीती
    मंगरुळपीर: तालुक्यातील शेलूबाजार ग्राम पंचायतला महसुल राज्यमंत्री ना संजय राठोड यांनी भेट दिली याप्रसंगी ग्रा पं च्या वतीने त्यांचा शाल श्रीफळ देवुन मोहन राऊत यांच्या हस्ते सत्कार करण्यात आले
    राज्याचे महसुल राज्यमंत्री ना.संजय राठोड यांनी धावती भेट दिली. यावेळी उपस्थीत ग्राम पंचायत पदाधिकाऱ्यांनी त्यांचा सत्कार केले. शेलूबाजार ग्राम पंचायतच्या कामकाज व लोकसंख्ये बाबत माहीती घेतली. यावेळी पुढे बोलतांना ना.रठोड म्हणाले की शेतकरी व नागरिकांच्या विविध प्रकारच्या समस्या निकाली काढण्यासाठी फेब्रुवारी महिन्यात जनता दरबार घेण्याबाबत माहीती दिली. यावेळी पं.स. उपसभापती विलास लांभाडे, तंटामुक्त समिती अध्यक्ष अनंत गिरी, मोहन राऊत, पांडुरंग कोठाळे,किशोर देशमुख, संतोष लांभाडे, तानाजी बोबडे, गणेश गायके,दिवाकर चक्रनारायण, गोपाल परसे, जलील खान,पवन राठी,जयकुमार गुप्ता, सुरज हांडे,हिद्दूशाह,खंडू अंभोरे, विष्णु सुरसे, गौतम गवई यांच्या सह बहुसंख्य युवक मोठ्या संख्येनी उपस्थीत होते(तालुका प्रतिनिधी)
    फोटो सोबत
    ना. राठोड यांचा सत्कार करतांना ग्रा. पं पदाधिकारी

    उत्तर देंहटाएं
  14. Aënd¶rZ ‘wbrda A˶mMma H$aUmam ‘moH$mQ>,
    {edàhma g§KQ>ZoMm Am§XmobZmMm Bemam
    ‘m§Oar ( à{V{ZYr)-
    ‘m§Oar(JmonminÅ>r) ¶oWrb Aënd¶rZ X{bV ‘wbrda A˶mMma H$aUmè¶m JwÝhoJmamg d ˶mÀ¶m gmWrXmam§g AQ>H$ hmoD$Z ,AmamontZm nmR>rer KmbUmè¶m g.nmo.{Z.g§Vmof KwJo ¶m§À¶mda H$madmB© hmoʶmH$arVm {edàhma g§KQ>Zm nwUo {OëømÀ¶m dVrZ§ nwUo nmobrg Am¶wº$mb¶mg‘moa Am‘aU CnmofU H$aʶmV ¶oUma Agë¶mMr ‘m{hVr g§KQ>ZoMo {Oëhmܶj H¡$bmg Amdmar,nwUo ehamܶj àH$me Hw§$^ma,hdobr VmbwH$m Aܶj A{Zb ~moQ>o ¶m§Zr àgma‘mܶ‘m§er ~mobVmZm {Xbr.
    ¶m {df¶r {ZdoXZ {edàhma g§KQ>ZoÀ¶m dVrZ§ nwUo eha nmobrg Am¶wº$ aí‘r ew³bm ¶m§Zm XoʶmV Ambo. ¶m {ZdoXZmV g§KQ>ZoZo åhQ>bo Amho H$s " JmonminÅ>r ‘m§Oar ¶oWo ‘mob‘Owar H$ê$Z CXa{Zdm©h H$aUmè¶m X{bV Hw$Qy>§~mVrb Aënd¶rZ ‘wbrbm (d¶ 14) Oo.Ama ñdrQ>g hmo‘ (JmonminÅ>r) ¶m XþH$mZmV H$m‘ H$aUmam naàm§Vr¶ amOñWmZr ¶wdH$ amhþb ¶mZo {X.16/4/2017 amoOr amOñWmZ ¶oWo ’w$g bmdyZ nidyZ Zobo.¶m g§X^m©V ‘m§Oar nmobrg Mm¡H$s ¶oWo [aVga VH«$ma XmIb Ho$br AgVm Vnmg A{YH$mar g.nmo.{Z.g§Vmof gXm{ed KwJo ¶m§Zr VnmgH$m‘r Q>mimQ>mi H$amd¶mg gwadmV Ho$br.
    Amamonr amhþb ¶mMo ZmVodmB©H$ {nS>rV ‘wbrbm KoD$Z ‘§Jidmar gm¶§H$mir ‘m§Oar ¶oWo nmobrg ñQ>oeZbm Ambo. gXa ‘wbrbm {H$S>Z°n H$ê$Z,amOñWmZ ¶oWo ZoD$Z,Y‘H$mdyZ A˶mMma H$ê$Z AmamonrÀ¶m ZmVodmB©H$m§Zr nmobrg ñQ>oeZbm AmUbo AgVm g§~§{YV VnmgA{YH$mar g.nmo.{Z.KwJo ¶m§Zr AmamonrÀ¶m ZmVodmB©H$m§Mr H$gbrhr Mm¡H$er Z H$aVm ˶m§Zm gmoSy>Z {Xbo.‘wbrÀ¶m AmB©dS>rbm§g‘moa Am{U gm‘m{OH$ H$m¶©H$˶mªg‘moa ¶m AmamonrÀ¶m ZmVodmB©H$m§Zm AmamonrÀ¶m VnmgmH$arVm Vmã¶mV Z KoVm g.nmo.{Z.KwJo ¶m§Zr amOñWmZbm OmʶmMm g„m {Xbm d ~mH$sMo ‘r nmhÿZ KoVmo Ago gm§{JVbo. {nS>rV ‘wbrMo AmB©dS>rb ho ‘mob‘Owar H$aUmao Jar~ Hw$Qy>§~ Amho.gXa Hw$Qy>§~ X{bV g‘mOmVrb AgyZ ‘wbJr Aënd¶rZ Amho.Ago AgVmZm KwJo ¶m§Zr AmamonrÀ¶m ZmVodmB©H$m§Zm nmR>rer KmbʶmMm à¶ËZ Ho$bm VgoM nmobrg ñQ>oeZ ‘m§Oar ¶oWo ‘wbrbm d {VÀ¶m AmB©dS>rbm§Zm Y‘H$mdʶmMm à¶ËZ Ho$bm. AmnU dH$sb KoD$Z ¶oWo ¶m, ‘wbrÀ¶m ¶m O~m~mbm H$mhr qH$‘V Zmhr, Oa Amamonrbm {ejm Pmbr Va ‘r ‘mPr AYu {‘er H$mT>rb Aer C‘©Q>nUmMr ^mfm {nS>rV ‘wbrMo AmB©dS>rb Am{U CnpñWV Agboë¶m gm‘m{OH$ H$m¶©H$˶m©§g‘moa KwJo ¶m§Zr Ho$br.nmobrg ho gd©gm‘mݶm§À¶m ajUmH$arVm AgVmV.nU g.nmo.{Z.KwJo ho ‘mÌ AmamonrÀ¶m ZmVodmB©H$m§Zm nmR>rer KmbVmo Amho,A˶mMmaJ«ñVm§Zm Y‘H$mdV Amho,gXa amhþb ZmdmMm Amamonr hm Oo.Ama ñdrQ>g XþH$mZmV H$m‘mbm hmoVm. ‘wbrbm nidyZ ZoVmZm ¶m XþH$mZXmamZo Qw>ìhrba Am{U n¡em§Mr ‘XV H$obr. ho XþH$mZXmamZohr nmobrgm§g‘moa H$~yb Ho$bo Amho,‘wbrZohr Ver O~mZr {Xbr Amho. Ago AgVmZm ¶m XþH$mZXmambm ghAmamonr H$ê$Z AQ>H$ H$obr nm{hOo. Va nmobrg A{YH$mar ‘mÌ Vnmg Ho$ë¶mZ§Va ˶mMm gh^mJ Agë¶mMo {gÕ Pmë¶mg ˶mbm AQ>H$ H$ê$ Ago gm§JyZ Q>mimQ>mi H$arV AmhoV.
    ¶o˶m 48 VmgmV Aënd¶rZ X{bV ‘wbrda A˶mMma H$aUmè¶m Amamonrg nmobrgm§Zr AQ>H$ H$amdr,{nS>rV ‘wbrÀ¶m AmB©dS>rbm§er AaoamdrMo dV©Z H$aUmao g.nmo.{Z g§Vmof KwJo ¶m§Mr ImVo{Zhm¶ Mm¡H$er H$aʶmV ¶mdr. Ama.Oo.ñdrQ>gMm XþH$mZXma,‘wbrbm amOñWmZdê$Z AmUyZ nmobrgm§À¶m Vmã¶mV XoUmao AmamonrMo ZmVodmB©H$ ¶m§Zm ghAmamonr H$aʶmV ¶mdo ¶mH$arVm {nS>rV ‘wbrMo dS>rb ho nmobrg Am¶wº$ ‘w»¶mb¶mg‘moa Amnbr nËZr,bhmZ ‘wbo ¶m§À¶m g‘doV Am‘aU CnmofUmbm ~gV Amho. gXa CnmofUmbm {edàhma g§KQ>ZoZo EH$‘wImZo nmR>t~m {Xbm AgyZ ¶m {nS>rV Hw$Qy>§~mbm ݶm¶ {‘imdm ¶mH$arVm g§KQ>ZoMo H$m¶©H$V} CnmofU H$aUma Agë¶mMr ‘m{hVr ¶mdoir {edàhma g§KQ>ZoÀ¶m dVrZ§ XoʶmV Ambr. ¶m~m~V VmVS>rZo H$m¶©dmhr Z Pmë¶mg nwUo {Oëhm d amÁ¶mV {edàhma g§KQ>Zm Vrd« Am§XmobZ gwê$ H$aob Agohr ¶mdoir {Oëhmܶj H¡$bmg Amdmar ¶m§Zr gm§{JVbo. ¶mdoir ‘mT>m VmbwH$mAܶj ZmJoe ì¶dhmao,{dÚmWu g§KQ>H$ ‘hoe qeXo,Hw$~oa dmK,H$‘boe OJVmn AmXr H$m¶©H$V} CnpñWV hmooVo.

    उत्तर देंहटाएं
  15. Aënd¶rZ ‘wbrda A˶mMma H$aUmam ‘moH$mQ>,
    {edàhma g§KQ>ZoMm Am§XmobZmMm Bemam
    ‘m§Oar ( à{V{ZYr)-
    ‘m§Oar(JmonminÅ>r) ¶oWrb Aënd¶rZ X{bV ‘wbrda A˶mMma H$aUmè¶m JwÝhoJmamg d ˶mÀ¶m gmWrXmam§g AQ>H$ hmoD$Z ,AmamontZm nmR>rer KmbUmè¶m g.nmo.{Z.g§Vmof KwJo ¶m§À¶mda H$madmB© hmoʶmH$arVm {edàhma g§KQ>Zm nwUo {OëømÀ¶m dVrZ§ nwUo nmobrg Am¶wº$mb¶mg‘moa Am‘aU CnmofU H$aʶmV ¶oUma Agë¶mMr ‘m{hVr g§KQ>ZoMo {Oëhmܶj H¡$bmg Amdmar,nwUo ehamܶj àH$me Hw§$^ma,hdobr VmbwH$m Aܶj A{Zb ~moQ>o ¶m§Zr àgma‘mܶ‘m§er ~mobVmZm {Xbr.
    ¶m {df¶r {ZdoXZ {edàhma g§KQ>ZoÀ¶m dVrZ§ nwUo eha nmobrg Am¶wº$ aí‘r ew³bm ¶m§Zm XoʶmV Ambo. ¶m {ZdoXZmV g§KQ>ZoZo åhQ>bo Amho H$s " JmonminÅ>r ‘m§Oar ¶oWo ‘mob‘Owar H$ê$Z CXa{Zdm©h H$aUmè¶m X{bV Hw$Qy>§~mVrb Aënd¶rZ ‘wbrbm (d¶ 14) Oo.Ama ñdrQ>g hmo‘ (JmonminÅ>r) ¶m XþH$mZmV H$m‘ H$aUmam naàm§Vr¶ amOñWmZr ¶wdH$ amhþb ¶mZo {X.16/4/2017 amoOr amOñWmZ ¶oWo ’w$g bmdyZ nidyZ Zobo.¶m g§X^m©V ‘m§Oar nmobrg Mm¡H$s ¶oWo [aVga VH«$ma XmIb Ho$br AgVm Vnmg A{YH$mar g.nmo.{Z.g§Vmof gXm{ed KwJo ¶m§Zr VnmgH$m‘r Q>mimQ>mi H$amd¶mg gwadmV Ho$br.
    Amamonr amhþb ¶mMo ZmVodmB©H$ {nS>rV ‘wbrbm KoD$Z ‘§Jidmar gm¶§H$mir ‘m§Oar ¶oWo nmobrg ñQ>oeZbm Ambo. gXa ‘wbrbm {H$S>Z°n H$ê$Z,amOñWmZ ¶oWo ZoD$Z,Y‘H$mdyZ A˶mMma H$ê$Z AmamonrÀ¶m ZmVodmB©H$m§Zr nmobrg ñQ>oeZbm AmUbo AgVm g§~§{YV VnmgA{YH$mar g.nmo.{Z.KwJo ¶m§Zr AmamonrÀ¶m ZmVodmB©H$m§Mr H$gbrhr Mm¡H$er Z H$aVm ˶m§Zm gmoSy>Z {Xbo.‘wbrÀ¶m AmB©dS>rbm§g‘moa Am{U gm‘m{OH$ H$m¶©H$˶mªg‘moa ¶m AmamonrÀ¶m ZmVodmB©H$m§Zm AmamonrÀ¶m VnmgmH$arVm Vmã¶mV Z KoVm g.nmo.{Z.KwJo ¶m§Zr amOñWmZbm OmʶmMm g„m {Xbm d ~mH$sMo ‘r nmhÿZ KoVmo Ago gm§{JVbo. {nS>rV ‘wbrMo AmB©dS>rb ho ‘mob‘Owar H$aUmao Jar~ Hw$Qy>§~ Amho.gXa Hw$Qy>§~ X{bV g‘mOmVrb AgyZ ‘wbJr Aënd¶rZ Amho.Ago AgVmZm KwJo ¶m§Zr AmamonrÀ¶m ZmVodmB©H$m§Zm nmR>rer KmbʶmMm à¶ËZ Ho$bm VgoM nmobrg ñQ>oeZ ‘m§Oar ¶oWo ‘wbrbm d {VÀ¶m AmB©dS>rbm§Zm Y‘H$mdʶmMm à¶ËZ Ho$bm. AmnU dH$sb KoD$Z ¶oWo ¶m, ‘wbrÀ¶m ¶m O~m~mbm H$mhr qH$‘V Zmhr, Oa Amamonrbm {ejm Pmbr Va ‘r ‘mPr AYu {‘er H$mT>rb Aer C‘©Q>nUmMr ^mfm {nS>rV ‘wbrMo AmB©dS>rb Am{U CnpñWV Agboë¶m gm‘m{OH$ H$m¶©H$˶m©§g‘moa KwJo ¶m§Zr Ho$br.nmobrg ho gd©gm‘mݶm§À¶m ajUmH$arVm AgVmV.nU g.nmo.{Z.KwJo ho ‘mÌ AmamonrÀ¶m ZmVodmB©H$m§Zm nmR>rer KmbVmo Amho,A˶mMmaJ«ñVm§Zm Y‘H$mdV Amho,gXa amhþb ZmdmMm Amamonr hm Oo.Ama ñdrQ>g XþH$mZmV H$m‘mbm hmoVm. ‘wbrbm nidyZ ZoVmZm ¶m XþH$mZXmamZo Qw>ìhrba Am{U n¡em§Mr ‘XV H$obr. ho XþH$mZXmamZohr nmobrgm§g‘moa H$~yb Ho$bo Amho,‘wbrZohr Ver O~mZr {Xbr Amho. Ago AgVmZm ¶m XþH$mZXmambm ghAmamonr H$ê$Z AQ>H$ H$obr nm{hOo. Va nmobrg A{YH$mar ‘mÌ Vnmg Ho$ë¶mZ§Va ˶mMm gh^mJ Agë¶mMo {gÕ Pmë¶mg ˶mbm AQ>H$ H$ê$ Ago gm§JyZ Q>mimQ>mi H$arV AmhoV.
    ¶o˶m 48 VmgmV Aënd¶rZ X{bV ‘wbrda A˶mMma H$aUmè¶m Amamonrg nmobrgm§Zr AQ>H$ H$amdr,{nS>rV ‘wbrÀ¶m AmB©dS>rbm§er AaoamdrMo dV©Z H$aUmao g.nmo.{Z g§Vmof KwJo ¶m§Mr ImVo{Zhm¶ Mm¡H$er H$aʶmV ¶mdr. Ama.Oo.ñdrQ>gMm XþH$mZXma,‘wbrbm amOñWmZdê$Z AmUyZ nmobrgm§À¶m Vmã¶mV XoUmao AmamonrMo ZmVodmB©H$ ¶m§Zm ghAmamonr H$aʶmV ¶mdo ¶mH$arVm {nS>rV ‘wbrMo dS>rb ho nmobrg Am¶wº$ ‘w»¶mb¶mg‘moa Amnbr nËZr,bhmZ ‘wbo ¶m§À¶m g‘doV Am‘aU CnmofUmbm ~gV Amho. gXa CnmofUmbm {edàhma g§KQ>ZoZo EH$‘wImZo nmR>t~m {Xbm AgyZ ¶m {nS>rV Hw$Qy>§~mbm ݶm¶ {‘imdm ¶mH$arVm g§KQ>ZoMo H$m¶©H$V} CnmofU H$aUma Agë¶mMr ‘m{hVr ¶mdoir {edàhma g§KQ>ZoÀ¶m dVrZ§ XoʶmV Ambr. ¶m~m~V VmVS>rZo H$m¶©dmhr Z Pmë¶mg nwUo {Oëhm d amÁ¶mV {edàhma g§KQ>Zm Vrd« Am§XmobZ gwê$ H$aob Agohr ¶mdoir {Oëhmܶj H¡$bmg Amdmar ¶m§Zr gm§{JVbo. ¶mdoir ‘mT>m VmbwH$mAܶj ZmJoe ì¶dhmao,{dÚmWu g§KQ>H$ ‘hoe qeXo,Hw$~oa dmK,H$‘boe OJVmn AmXr H$m¶©H$V} CnpñWV hmooVo.

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...