मंगलवार, 16 अक्तूबर 2012

सपने Dreams

जिन्हें हम भविष्य के सपने कह रहे हैं यदि गहरे से सोचे तो वे हमारी कल्पनाएँ हैं जो की हम पूरे होसो हवाश जागते में करते हैं. सपने जो हमने देखे थे नीद में वे अन प्लान होते हैं. और कभी कभी हमे लगता है की जैसे बीता वक्त जैसे सपने की तरह हमने जिया वह या तो बहुत बुरा वक्त होता है या बहुत ही अच्छा वक्त.

1 टिप्पणी:

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...