शुक्रवार, 11 मई 2012

यह अन्न-देवता का अपमान है Rotten wheat

सड़ता गेंहू Rotten wheat

बुद्धि जीवियों यदि गोदामों में जगह नही है तो जिन्होंने आपकी सरकार बनाने के लिये वोट दिया है उस देश के मतदाताओं के घर में बहुत जगह है। क्या अपने देश की जनता पर भरोसा नही है, हम सड़ायेंगे नही खायेंगे। ये भूल जाओ कि हम फ्री का खा कर कामचोर हो जायेंगे और आपको वोट देने नही आयेंगे। बुरा ना मानो होली गई।






1 टिप्पणी:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!
    --
    डॉ. रूपचंद्र शास्त्री "मयंक"
    टनकपुर रोड, खटीमा,
    ऊधमसिंहनगर, उत्तराखंड, भारत - 262308.
    Phone/Fax: 05943-250207,
    Mobiles: 09456383898, 09808136060,
    09368499921, 09997996437, 07417619828
    Website - http://uchcharan.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...